Adayen Bhi Hai Lyrics – Kumar Sanu

Adayen Bhi Hai Lyrics from ( Dil Hai Ke Manta Nahin ) Movie (1991) Song Sung by Anuradha Paudwal, Kumar Sanu. this Song Music given by Nadeem Saifi, Shravan Rathod. Adayen Bhi Hai Song lyrics by Sameer. this Song Video Actor by Aamir Khan, Pooja Bhatt and this Video Song is Label by T-Series.

Adayen Bhi Hai Lyrics – Kumar Sanu

Adayen Bhi Hai Lyrics - Kumar Sanu

Song Credits:

Movie:   Dil Hai Ki Manta Nahin (1991)
Song:    Adayen Bhi Hai
Singer:  Anuradha Paudwal, Kumar Sanu
Music:   Nadeem Saifi, Shravan Rathod
Lyrics:   Sameer
Cast:      Aamir Khan, Pooja Bhatt
Label:    T-Series

Adayen Bhi Hai Song:

Adayen Bhi Hai Lyrics (English)

Adaae bhi hain
Mohabbat bhi hain
Sharaafat bhi hain
Mere mehboob mein
Vo deewanaapan
Vo zaalim adaa
Sharaafat bhi hain
Mere mehboob mein

Adaae bhi hain
Mohabbat bhi hain
Nazaakat bhi hain
Mere mehboob mein
Vo deewanaapan
Vo maasumiyat
Sharaarat bhi hain
Mere mehboob mein

Na puchho meraa
Dil kahaa kho gayaa
Tujhe dekhate hi
Teraa ho gayaa
Aankho mein tu hain
Mere khvaabo mein tu hain
Yaado ke mahake
Gulaabo mein tu hain
Vo sahami nazar
Vo kamasin umar
Chaahat bhi hain
Mere mehboob mein
Vo deewanaapan
Vo maasumiyat
Sharaarat bhi hain
Mere mehboob mein

Saanso ki bahaki
Lahar ruk gai
Mujhe sharm aayi
Nazar jhuk gai
Ki ham unake
Kitane karib aa gaye
Ye soch ke ham
To ghabaraa gaye
Vo baankapan
Vo deewanagi
Inaayat bhi hain
Mere mehboob mein
Vo deewanaapan
Vo zaalim adaa
Sharaafat bhi hain
Mere mehboob mein

Mohabbat ki duniyaa
Basaane chalaa
Main tere liye sab
Bhulaane chalaa
Khushboo koi usaki
Baato mein hain
Har faisala usake
Haatho mein hai
Vo mahakaa badan
Vo sharmilaapan
Nazaakat bhi hain
Mere mehboob mein
Vo deewanaapan
Vo zaalim adaa
Sharaafat bhi hain
Mere mehboob mein
Adaae bhi hain
Mohabbat bhi hain
Nazaakat bhi hain
Mere mehboob mein.

Adayen Bhi Hai Lyrics (Hindi)

अदाए भी हैं
मोहब्बत भी हैं
शराफत भी हैं
मेरे मेहबूब में
वो दीवानापन
वो ज़ालिम अदा
शराफत भी हैं
मेरे मेहबूब में

अदाए भी हैं
मोहब्बत भी हैं
नज़ाकत भी हैं
मेरे मेहबूब में
वो दीवानापन
वो मासूमियत
शरारत भी हैं
मेरे मेहबूब में

न पूछो मेरा
दिल कहाँ खो गया
तुझे देखते ही
तेरा हो गया
आँखों में तू हैं
मेरे ख्वाबों में तू हैं
यादो के महके
गुलाबो में तू हैं
वो सहमी नज़र
वो कमसिन उम्र
चाहत भी हैं
मेरे मेहबूब में
वो दीवानापन
वो मासूमियत
शरारत भी हैं
मेरे मेहबूब में

साँसों की बहकी
लहार रुक गई
मुझे शर्म आयी
नज़र झुक गई
की हम उनके
कितने करीब आ गए
ये सोच के हम
तो घबरा गए
वो बांकपन
वो दीवानगी
इनायत भी हैं
मेरे मेहबूब में
वो दीवानापन
वो ज़ालिम अदा
शराफत भी हैं
मेरे मेहबूब में

मोहब्बत की दुनिया
बसाने चला
मैं तेरे लिए सब
भुलाने चला
खुश्बू कोई उसकी
बातों में हैं
हर फैसला उसके
हाथों में है
वो महाका बदन
वो शर्मीलापन
नज़ाकत भी हैं
मेरे मेहबूब में
वो दीवानापन
वो ज़ालिम अदा
शराफत भी हैं
मेरे मेहबूब में
अदाए भी हैं
मोहब्बत भी हैं
नज़ाकत भी हैं
मेरे मेहबूब में.

Leave a Comment