Hawa Sard Hai Lyrics – Alka Yagnik

Hawa Sard Hai Lyrics from ( Bol Radha Bol ) Movie (1992) Song Sung by Abhijeet Bhattacharya, Alka Yagnik. this Song Music given by Anand Shrivastav, Milind Shrivastav. Hawa Sard Hai Song lyrics by Sameer. this Song Video Actor by Rishi Kapoor, Juhi Chawla and this Video Song is Label by Tips Music.

Hawa Sard Hai Lyrics - Alka Yagnik

Song Credits:

Movie:   Bol Radha Bol (1992)
Song:    Hawa Sard Hai
Singer:  Abhijeet Bhattacharya, Alka Yagnik
Music:   Anand Shrivastav, Milind Shrivastav
Lyrics:   Sameer
Cast:     Rishi Kapoor, Juhi Chawla
Label:    Tips Music

Hawa Sard Hai Lyrics

Hawa sard hai khidki band kar lo
Hawa sard hai khidki band kar lo
Band kamre mein
Band kamre mein chahat buland kar lo
Paas baitho
Paas baitho zara baaten chand kar lo
Band kamre mein chahat buland kar lo
Band kamre mein chahat buland kar lo

Surmai ghata shabnami sama
Dil mein pyas hai dhadkanen jawaan
Surmai ghata shabnami sama
Dil mein pyas hai dhadkanen jawaan
Aaise hum bhala ab duur kyon rahe
Milke judaai ka yeh dard kyon sahe
Chhu ke gulaabi labon ko chhane laga hai nasha
Baahon mein aake teri kyon aane laga hai mazaa
Apani nigaahon mein nazar band kar lo
Paas baitho zara baaten chand kar lo
Paas baitho zara baaten chand kar lo
Band kamre mein chahat buland kar lo
Band kamre mein chahat buland kar lo

Sirf hum yahaan teesra nahi
Beet jaaye na waqt yeh haseen
Sirf hum yahaan teesra nahi
Beet jaaye na waqt yeh haseen
Durri nahi koi dono ke darmayaan
Kismat se hai mila mauka yeh dilruba
Yeh mere dil ki sadaa hai mujhko gale se laga
Saanson mein tujhko basa lu
Aa meri baahon mein aa
Husn ke jalwon ko tum pasand kar lo
Hawa sard hai khidki band kar lo
Hawa sard hai khidki band kar lo
Band kamre mein chahat buland kar lo
Band kamre mein chahat buland kar lo
Hawa sard hai khidki band kar lo
Hawa sard hai khidki band kar lo
Band kamre mein chahat buland kar lo
Band kamre mein chahat buland kar lo.

हवा सर्द है खिड़की बंद कर लो
हवा सर्द है खिड़की बंद कर लो
बंद कमरे में
बंद कमरे में चाहत बुलंद कर लो
पास बैठो
पास बैठो ज़रा बातें चाँद कर लो
बंद कमरे में चाहत बुलंद कर लो
बंद कमरे में चाहत बुलंद कर लो

सुरमई घटा शबनमी समां
दिल में प्यास है धड़कनें जवान
सुरमई घटा शबनमी समां
दिल में प्यास है धड़कनें जवान
ऐसे हम भला अब दूर क्यों रहे
मिलके जुदाई का यह दर्द क्यों सहे
छू के गुलाबी लबों को छाने लगा है नशा
बाहों में आके तेरी क्यों आने लगा है मज़ा
अपनी निगाहों में नज़र बंद कर लो
पास बैठो ज़रा बातें चाँद कर लो
पास बैठो ज़रा बातें चाँद कर लो
बंद कमरे में चाहत बुलंद कर लो
बंद कमरे में चाहत बुलंद कर लो

सिर्फ हम यहां तीसरा नहीं
बीत जाए न वक़्त यह हसीं
सिर्फ हम यहां तीसरा नहीं
बीत जाए न वक़्त यह हसीं
दुर्री नहीं कोई दोनों के दरम्यान
किस्मत से है मिला मौका यह दिलरुबा
यह मेरे दिल की सदा है मुझको गले से लगा
साँसों में तुझको बसा लू
ा मेरी बाहों में आ
हुस्न के जलवों को तुम पसन्द कर लो
हवा सर्द है खिड़की बंद कर लो
हवा सर्द है खिड़की बंद कर लो
बंद कमरे में चाहत बुलंद कर लो
बंद कमरे में चाहत बुलंद कर लो
हवा सर्द है खिड़की बंद कर लो
हवा सर्द है खिड़की बंद कर लो
बंद कमरे में चाहत बुलंद कर लो
बंद कमरे में चाहत बुलंद कर लो.

Hawa Sard Hai Song:

Leave a Comment