Kaun Si Baat Hain Lyrics – Yalgaar

Kaun Si Baat Hain Lyrics from ( Yalgaar ) Movie (1992) Song Sung by Kumar Sanu, Sapna Mukherjee. this Song Music given by Channi Singh. Kaun Si Baat Hain Song lyrics by Sudarshan Faakir. this Song Video Actor by Feroz Khan, Sanjay Dutt, Manisha Koirala and this Video Song is Label by Tips Music.

Kaun Si Baat Hain Lyrics - Yalgaar

Song Credits:

Movie:   Yalgaar (1992)
Song:    Kaun Si Baat Hain
Singer:  Kumar Sanu, Sapna Mukherjee
Music:   Channi Singh
Lyrics:   Sudarshan Faakir
Cast:     Feroz Khan, Sanjay Dutt, Manisha Koirala
Label:   Tips Music

Kaun Si Baat Hain Lyrics

Kaun si baat hain duniya
Mein nahin jiska ilaaj
Kaun si baat hain duniya
Mein nahin jiska ilaaj
Hamne ulfat ke liye
Tode hai sab rasm-o-rivaaj
Hamne ulfat ke liye
Tode hai sab rasm-o-rivaaj
Kaun si baat hai..

Yun to kahti hain ye duniya ke
Mohabbat hain khuda
Yun to kahti hain ye duniya ke
Mohabbat hai khuda
Phir bhi ilzaam-e-mohabbat
Pe hi deti hai saza
Begunah ko jo saza de
Wo adalat hai samaaj
Begunaah ko jo sazaa de
Vo adaalat hai samaaj
Hamne ulfat ke liye tode
Hain sab rasm-o-rivaaj
Hamne ulfat ke liye tode
Hain sab rasm-o-rivaaj
Kaun si baat hai..

Agar insaan ki sahulat ko
Bani hain rasmen
Agar insaan ki sahulat ko
Bani hain rasmen
Kyun mohabbat ka gala
Ghont rahi hain rasmen
Mel khata nahin rasmon
Se mohabbat ka mizaj
Mel khata nahin rasmon
Se mohabbat ka mizaj
Hamne ulfat ke liye tode
Hain sab rasm-o-rivaaj
Hamne ulfat ke liye tode
Hain sab rasm-o-rivaaj
Kaun si baat hain duniya
Mein nahi jiska ilaaj
Kaun si baat hain duniya
Mein nahi jiska ilaaj
Hamne ulfat ke liye tode hain
Sab rasm-o-rivaaj
Hamne ulfat ke liye tode hain
Sab rasm-o-rivaaj
Kaun si baat hai.

कौन सी बात हैं दुनिया
में नहीं जिसका इलाज
कौन सी बात हैं दुनिया
में नहीं जिसका इलाज
हमने उल्फ़त के लिए
तोड़े है सब रस्म-ो-रिवाज
हमने उल्फ़त के लिए
तोड़े है सब रस्म-ो-रिवाज
कौन सी बात है..

यूँ तो कहती हैं ये दुनिया के
मोहब्बत हैं खुदा
यूँ तो कहती हैं ये दुनिया के
मोहब्बत है खुदा
फिर भी इलज़ाम-इ-मोहब्बत
पे ही देती है सजा
बेगुनाह को जो सजा दे
वो अदालत है समाज
बेगुनाह को जो सज़ा दे
वो अदालत है समाज
हमने उल्फ़त के लिए तोड़े
हैं सब रस्म-ो-रिवाज
हमने उल्फ़त के लिए तोड़े
हैं सब रस्म-ो-रिवाज
कौन सी बात है..

अगर इंसान की सहूलत को
बनी हैं रस्में
अगर इंसान की सहूलत को
बनी हैं रस्में
क्यूँ मोहब्बत का गाला
घोंट रही हैं रस्में
मेल खता नहीं रस्मों
से मोहब्बत का मिज़ाज
मेल खता नहीं रस्मों
से मोहब्बत का मिज़ाज
हमने उल्फ़त के लिए तोड़े
हैं सब रस्म-ो-रिवाज
हमने उल्फ़त के लिए तोड़े
हैं सब रस्म-ो-रिवाज
कौन सी बात हैं दुनिया
में नहीं जिसका इलाज
कौन सी बात हैं दुनिया
में नहीं जिसका इलाज
हमने उल्फ़त के लिए तोड़े हैं
सब रस्म-ो-रिवाज
हमने उल्फ़त के लिए तोड़े हैं
सब रस्म-ो-रिवाज
कौन सी बात है.

Kaun Si Baat Hain Song:

Leave a Comment