Koi Phool Kahin Na Lyrics – Dhanwaan

Koi Phool Kahin Na Lyrics from ( Dhanwaan ) Movie (1993) Song Sung by Abhijeet Bhattacharya, Alka Yagnik. this Song Music given by Anand Shrivastav, Milind Shrivastav. Koi Phool Kahin Na Song lyrics by Sameer. this Song Video Actor by Ajay Devgan, Manisha Koirala, Karishma Kapoor and this Video Song is Label by Sa Re Ga Ma.

Koi Phool Kahin Na Lyrics - Dhanwaan

Song Credits:

Movie:   Dhanwaan (1993)
Song:    Koi Phool Kahin Na
Singer:  Abhijeet Bhattacharya, Alka Yagnik
Music:   Anand Shrivastav, Milind Shrivastav
Lyrics:   Sameer
Cast:     Ajay Devgan, Manisha Koirala, Karishma Kapoor
Label:    Sa Re Ga Ma

Koi Phool Kahin Na Lyrics

Koi phool kahi na khila
Phir khushboo kaha se aayi
Koi patta nahi hila phir
Kaise chali purwai
Koi phool kahi na khila
Phir khushboo kaha se aayi
Koi patta nahi hila
Phir kaise chali purwai
Chahat ke khumar ka
Ye jadu hai pyar ka
Mujhe ho gaya hai
Pyar kisse tumse
Mujhe ho gaya hai
Pyar tumse ha ha tumse
Koi phool kahi na
Khila phir khushboo kaha se aayi
Koi patta nahi hila
Phir kaise chali purwai

Din ke ujali dhup maibhi
Mujhko chand najar aaye
Garmi ke is alam mein
Barg gagan kyu barsaye
Ho chandan ke lagne se
Bhi  tan ki aag nahi bujhti
Bin pritam ki kaliyo ki
Sej badan mein hai chubhti
Koi hoth kahi na khula
Phir kaise baji ye sargum
Hai waqt yahi thahra
Phir kaise dhala ye mausam
Chahat ke khumar ka
Ye jadu hai pyar ka
Mujhe ho gaya hai
Pyar kisse tumse
Mujhe ho gaya hai
Pyar tumse ha ha tumse

Aao is khamoshi mein
Dhadkan ki awaz sune
Milke hum tanhai mein
Bechaini ke khwab bune
Hum itne nadeek rahe
Do sanse ek sath chale
Madmati madhoshi
Mein ulfat ke arman pale
Koi dor kahi na dikhi
Phir kaise jude ye bandhan
Do pran kahi na mile
Phir kaise mile hai jivan
Chahat ke khumar ka
Ye jadu hai pyar ka
Mujhe ho gaya hai
Pyar kisse tumse
Mujhe ho gaya hai
Pyar tumse ha ha tumse.

कोई फूल कही न खिला
फिर ख़ुश्बू कहा से आयी
कोई पत्ता नहीं हिल फिर
कैसे चली पुरवाई
कोई फूल कही न खिला
फिर ख़ुश्बू कहा से आयी
कोई पत्ता नहीं हिल
फिर कैसे चली पुरवाई
चाहत के खुमार का
ये जादू है प्यार का
मुझे हो गया है
प्यार किससे तुमसे
मुझे हो गया है
प्यार तुमसे हा हा तुमसे
कोई फूल कही न
खिला फिर ख़ुश्बू कहा से आयी
कोई पत्ता नहीं हिल
फिर कैसे चली पुरवाई

दिन के उजली धूप मैभी
मुझको चाँद नजर आये
गर्मी के इस आलम में
बर्ग गगन क्यों बरसाए
हो चन्दन के लगने से
भी  तन की आग नहीं बुझती
बिन प्रीतम की कलियों की
सेज बदन में है चुभती
कोई होठ कही न खुला
फिर कैसे बजी ये सरगम
है वक़्त यही ठहरा
फिर कैसे ढला ये मौसम
चाहत के खुमार का
ये जादू है प्यार का
मुझे हो गया है
प्यार किससे तुमसे
मुझे हो गया है
प्यार तुमसे हा हा तुमसे

आओ इस ख़ामोशी में
धड़कन की आवाज़ सुने
मिलके हम तन्हाई में
बेचैनी के ख्वाब बुने
हम इतने नजदीक रहे
दो साँसे एक साथ चले
मदमाती मदहोशी
में उल्फत के अरमान पाले
कोई डोर कही न दिखी
फिर कैसे जुड़े ये बंधन
दो प्राण कही न मिले
फिर कैसे मिले है जीवन
चाहत के खुमार का
ये जादू है प्यार का
मुझे हो गया है
प्यार किससे तुमसे
मुझे हो गया है
प्यार तुमसे हा हा तुमसे.

Koi Phool Kahin Na Song:

Leave a Comment