Maine Kaha Mohataram Lyrics – Baazi

Maine Kaha Mohataram Lyrics from ( Baazi ) Movie (1995) Song Sung by Sadhana Sargam, Udit Narayan. this Song Music given by Anand Shrivastav, Milind Shrivastav. Maine Kaha Mohataram Song lyrics by Sameer. this Song Video Actor by Aamir Khan, Mamta Kulkarni and this Video Song is Label by T-Series.

Maine Kaha Mohataram Lyrics - Baazi

Song Credits:

Movie:  Baazi (1995)
Song:    Maine Kaha Mohataram
Singer:  Sadhana Sargam, Udit Narayan
Music:   Anand Shrivastav, Milind Shrivastav
Lyrics:    Sameer
Cast:      Aamir Khan, Mamta Kulkarni
Label:    T-Series

Maine Kaha Mohataram Lyrics

Paidal ho tum manji hai dur
Hamdardi hai tumse huzur
Maine kaha mohataram
Ruke hue kyu hai kadam
Maine kaha mohataram
Ruke hue kyu hai kadam
Kahe ka hai intzar

Mana ke hai lamba safar,
Par tumhe hai kahe ka dar
Chadti jawani hai rut bhi
Suhani hai manjil bhi rahi pukar
Maine kaha mohataram
Ruke hue kyu hai kadam

Chalne mein paw thak jaye jo tumhare
Le lena dam kahi baith ke pyare
Chalne mein paw thak jaye jo tumhare
Le lena dam kahi baith ke pyare

Rahi ko hai thandi chaw jaruri
Baho me ho ya nadi ke kinare
Jana abhi hai tumko dur,
Mera kaha karna jurur
Maine kaha mohataram
Ruke hue kyu hai kadam
Maine kaha mohataram
Ruke hue kyu hai kadam

Dekho kisi bekhata ki
Aise hasi na udao
Lagata hai ye bhi kahoge
Alha hame na satao
Chalo re sakhiyo chane utaro
Ise to lat me fasa ke maro

Dekho kisi bekhata ki
Aise hasi na udao
Lagata hai ye bhi kahoge
Alha hame na satao
Kar do muaf mera kusur,
Had ho gayi ab to huzur
Maine kaha mohataram
Ruke hue kyu hai kadam
Samjhe na mohataram
Ruke hue kyu hai kadam
Kahe ka hai intazar

Mana ke hai lamba safar,
Par tumhe hai kahe ka dar
Chadti jawani hai rut bhi
Suhani hai manjil bhi rahi utar
Maine kaha mohataram
Ruke hue kyu hai kadam

Maine kaha mohataram
Sun liya mohataram
Are maine kaha mohataram
Sun liya mohataram.

पैदल हो तुम माँजी है दूर
हमदर्दी है तुमसे हुज़ूर
मैंने कहा मोहतरम
रुके हुए क्यों है कदम
मैंने कहा मोहतरम
रुके हुए क्यों है कदम
काहे का है इंतज़ार

मन के है लम्बा सफर
पर तुम्हे है काहे का दर
चढ़ती जवानी है रुत भी
सुहानी है मंजिल भी रही पुकार
मैंने कहा मोहतरम
रुके हुए क्यों है कदम

चलने में पॉ थक जाये जो तुम्हारे
ले लेना डैम कही बैठ के प्यारे
चलने में पॉ थक जाये जो तुम्हारे
ले लेना डैम कही बैठ के प्यारे

रही को है ठण्डी चौ जरुरी
बाहों में हो या नदी के किनारे
जाना अभी है तुमको दूर
मेरा कहा करना जरूर
मैंने कहा मोहतरम
रुके हुए क्यों है कदम
मैंने कहा मोहतरम
रुके हुए क्यों है कदम

देखो किसी बेख़ता की
ऐसे हसि न उड़ाओ
लगता है ये भी कहोगे
अल्हा हमें न सताओ
चलो रे सखियो चने उतरो
इसे तो लत में फसा के मारो

देखो किसी बेख़ता की
ऐसे हसि न उड़ाओ
लगता है ये भी कहोगे
अल्हा हमें न सताओ
कर दो मुआफ मेरा कुसूर
हद हो गयी अब तो हुज़ूर
मैंने कहा मोहतरम
रुके हुए क्यों है कदम
समझे न मोहतरम
रुके हुए क्यों है कदम
काहे का है इंतज़ार

मन के है लम्बा सफर
पर तुम्हे है काहे का दर
चढ़ती जवानी है रुत भी
सुहानी है मंजिल भी रही उत्तर
मैंने कहा मोहतरम
रुके हुए क्यों है कदम

मैंने कहा मोहतरम
सुन लिया मोहतरम
अरे मैंने कहा मोहतरम
सुन लिया मोहतरम.

Maine Kaha Mohataram Song:

Leave a Comment