Zamane Ki Buraai Lyrics – Junoon

Zamane Ki Buraai Lyrics from ( Junoon ) Movie (1992) Song Sung by Vipin Sachdeva. this Song Music given by Nadeem Saifi, Shravan Rathod. Zamane Ki Buraai Song lyrics by Sameer. this Song Video Actor by Rahul Roy, Avinash Wadhawan, Pooja Bhatt and this Video Song is Label by T-series.

Zamane Ki Buraai Lyrics - Junoon

Song Credits:

Movie:  Junoon (1992)
Song:    Zamane Ki Buraai
Singer:  Vipin Sachdeva
Music:   Nadeem Saifi, Shravan Rathod
Lyrics:   Sameer
Cast:      Rahul Roy, Avinash, Pooja Bhatt
Label:    T-series

Zamane Ki Buraai Lyrics

Zamane ki buraai
Mujh mein hai sanam
Magar bewafayi,
Mujh mein nahin
Zamane ki buraai
Mujh mein hain sanam
Magar bewafayi,
Mujh mein nahinn
Na koi acchayi,
Mujh mein hai sanam
Magar bewafayi,
Mujh mein nahin

Main pagal deewana hoon,
Main maanta hoon
Main pagal deewana hoon,
Main maanta hoon
Bada nasamajh hoon yeh,
Main jaanta hoon
Par badli nazron ko
Pehchanta hoon
Zamane ki buraai
Mujh mein hai sanam
Magar bewafayi,
Mujh mein nahin
Na koi acchayi,
Mujh mein hain sanam
Magar bewafayi,
Mujh mein nahin

Nigaahein mila ke,
Nazar modh lena
Nigaahein mila ke,
Nazar modh lena
Sapeene ko mazhdhar,
Mein chhod dena
Nahin maine sikha hain,
Dil tod dena
Zamane ki buraai
Mujh mein hain sanam
Magar bewafayi,
Mujh mein nahin
Na koi acchayi,
Mujh mein hain sanam
Magar bewafayi,
Mujh mein nahinn

Jo dil kahe,
Dilruba mujhko kehna
Jo dil kahe,
Dilruba mujhko kehna
Duniya mein sab se,
Bura mujhko kehna
Par na tum, bewafa
Mujhko kehna
Zamane ki buraai
Mujh mein hai sanam
Magar bewafayi,
Mujh mein nahin
Na koi acchayi,
Mujh mein hai sanam
Magar bewafayi,
Mujh mein nahin.

ज़माने की बुराई
मुझ में है सनम
मगर बेवफाई
मुझ में नहीं
ज़माने की बुराई
मुझ में हैं सनम
मगर बेवफाई
मुझ में नाहिंन
न कोई अच्छाई
मुझ में है सनम
मगर बेवफाई
मुझ में नहीं

मैं पागल दीवाना हूँ
मैं मानता हूँ
मैं पागल दीवाना हूँ
मैं मानता हूँ
बड़ा नासमझ हूँ यह
मैं जानता हूँ
पर बदली नज़रों को
पहचानता हूँ
ज़माने की बुराई
मुझ में है सनम
मगर बेवफाई
मुझ में नहीं
न कोई अच्छाई
मुझ में हैं सनम
मगर बेवफाई
मुझ में नहीं

निगाहें मिला के
नज़र मोड़ लेना
निगाहें मिला के
नज़र मोड़ लेना
सपीने को मज़्हघर
में छोड़ देना
नहीं मैंने सीखा हैं
दिल तोड़ देना
ज़माने की बुराई
मुझ में हैं सनम
मगर बेवफाई
मुझ में नहीं
न कोई अच्छाई
मुझ में हैं सनम
मगर बेवफाई
मुझ में नाहिंन

जो दिल कहे
दिलरुबा मुझको कहना
जो दिल कहे
दिलरुबा मुझको कहना
दुनिया में सब से
बुरा मुझको कहना
पर न तुम
मुझको कहना
ज़माने की बुराई
मुझ में है सनम
मगर बेवफाई
मुझ में नहीं
न कोई अच्छाई
मुझ में है सनम
मगर बेवफाई
मुझ में नहीं.

Zamane Ki Buraai Song:

Leave a Comment